सनकी आशिक का इंतकाम, सवालों के घेरे में पुलिस-प्रशासन

348
0
SHARE

बेतिया संवाददाता – तू मेरी नहीं तो किसी और का होने न दूंगा ! कुछ इसी अंदाज में एक तरफा प्यार करनेवाला सनकी आशिक पूरे प्लानिंग के साथ लड़की को उसी के घर में सोये हुए अवस्था में पेट्रोल छिड़क कर जिंदा जला डाला। जिसमें उसके साथ सो रही उसकी छोटी बहन भी जिंदा जल गई।

Read More Bettiah News in Hindi

सवाल उठता है की लड़की और लड़की के परिवार वालों के द्वारा जब पुलिस को पहले से सूचना दी जा चुकी थी की एक सिरफिरा आशिक लड़की और लड़की के परिवार से ज़ोर जबर्दस्ती और मार-पीट करता है। तो पहले ही इस आशिक पर पुलिस ने कारवाई क्यों नहीं की ? जैसा की बेतिया एसपी घटना घटने के 8 दिन बाद आरोपी को पकड़ कर प्रेस कॉन्फ्रेस कर पूरी बात की जानकारी दी। पोखरभिंडा गांव का वो घर जो मुफफसील थाने के इलाके में आता है। लड़की की मां आज भी दहाड़ मार रोती चीखती रहती है और लोग लमाशाबीन बने रहते हैं। 18/4/17 का पेट्रोल छिड़ककर जलाने वाली वो वारदात जहां छोटी बहन की मौके पर ही मौत हो गई और बड़ी बहन 3 दिन बाद अस्पताल दम तोड़ गई। लोगों के जेहन में पुलिस प्रशासन के प्रति आक्रोश पैदा करती है।

Read More Bihar News in Hindi

लड़की की मां छाती पीटकर बोलती रही है की घर का कुंडी खुल जाता तो मेरी बीटियां तड़प-तड़प कर नहीं मरती। आरोपीयों ने बाहर से कुंडी लगाकर घर के वेंटिलेटर से पेट्रोल फेका था। अब जरा इस घटना की कहानी को जान लें, इस कहानी में लड़की आरोपी के पास जूडो कराटे का हुनर सीखने जाया करती थी। उसी दौरान आरोपी के द्वारा प्यार के इजहार को लड़की बार-बार ठुकराती रही, जिससे खफा होकर आशिक प्लानिंग के साथ दो बहनों को मौत के घाट उतार दिया। इस बीच लड़की और लड़की के परिवार वालों पर दबाव बनती रही और मार पीट भी होती रही ।

Read More Bettiah News

जिस बात को लड़की के पिता ने पुलिस को पहले ही बता दिया था, इस बात को बेतिया एसपी भी अब स्वीकार रहे हैं। बेतिया एसपी सब कुछ अपने मुंह से स्वीकार कर रहे हैं की आरोपी द्वारा बलपूर्वक दवाब बनाया जाता था और मार-पीट की जाती थी। अब सवाल उठता है कि जब पुलिस को सारी बातें पता थी तो पहले ही आरोपी को क्यों नहीं पकड़ा गया ? आरोपी के साथ प्लानिंग में कई और लोग भी शामिल हैं, जो अब भी पुलिस के पकड़ से बाहर हैं। हालांकी मेन आरोपी एक और साथी पुलिस के गिरफ्त में है जिसके लिए बेतिया एसपी न्यायालय से स्पिडी ट्राइल की गुहार लगायेंगे।