जब बिना दुल्हन की लौटी बारात…

2054
0
SHARE

पटना: सितामढ़ी के सिंहवाड़ा के शंकरपुर गांव में निकाह पढ़ाने के समय दूल्हा पक्ष की ओर से बाइक की मांग महंगी पड़ी। लड़की पक्ष वालों ने न सिर्फ शादी रोक दी, बल्कि गांव के ही दूसरे लड़के से युवती की शादी करा दहेज लोभियों को सबक भी सिखाया। सोमवार की सुबह उनकी बारात बिन दुल्हन के लौटी।

यह बारात सीतामढ़ी जिला के बाजपट्टी थाना क्षेत्र की बसहा पंचायत के मधुबन गांव से आयी थी। रविवार की रात भव्य पंडाल में बैठे बारातियों के बीच निकाह पढ़ाने की तैयारी चल रही थी। अचानक बाइक की मांग पर लड़के वाले अड़ गये। विवाद बढ़ा तो शहनाई की आवाज बंद हो गई। भगदड़ की स्थिति बन गई। तब भाग रहे बारातियों को ग्रामीणों ने रोक लिया। दूल्हे और उनके रिश्तेदारों को रोक, बाकी बारातियों को ससम्मान विदा कर दिया गया। दुल्हा पक्ष के लोगों ने लेन-देन एवं खर्च की राशी लौटायी तब जाकर सोमवार की अहले सुबह गांव वालों ने उन्हें जाने दिया। वे मुंह लटकाये विदा हुए।

इस बीच समाज के लोगों ने निकाह तत्काल होने पर विचार शुरू किया। गांव के ही एक सज्जन आगे आये और अपने पुत्र के निकाह का प्रस्ताव जैसे ही दिया पंडाल में फिर शहनाई गूंजने लगी। धूमधाम से निकाह संपन्न हुआ। इसमें शामिल होने के लिए गांव के ही नहीं भरवाड़ा बाजार के अधिकांश लोग जमा हो गए। मौके पर पहुंचे ग्रामीण ने दहेज लोभी लोगों की खूब खिल्ली उड़ाई।