क्या इस वजह से किसान ने की आत्महत्या ?

463
0
SHARE

शिवहर – इस घर के रोने-पीटने की आवाज से पूरा गाँव सन्न है। जिले में एक किसान द्वारा जहर खाकर आत्महत्या कर लेने की बात सामने आयी है। परिजनों ने दावा किया है कि फसल में दाना नहीं आने से दुखी होकर किसान ने आत्महत्या कर लिया है। यह घटना तरियानी थाना क्षेत्र के राजाडीह गांव की है। बताया जा रहा है कि किसान नारद राय ने लगभग ढाई बीघा जमीन हुंडा बटाई के रूप में किराए पर लिया था जिससे वे अपने परिवार का भरण-पोषण करते थे।

इस बार राय ने कर्ज लेकर मक्का की खेती किया जिसमें दाना नहीं आया जिसके कारण एक तो जमीन वाले का दबाव दूसरा कर्ज की चिंता से परेशान होकर उसे यह कदम उठाना पड़ा। मृतक नारद राय जहर खाकर मक्का के खेत में ही बेहोश पड़े हुए थे। परिजन जब सुबह 7 बजे खेत की तरफ गये तो मक्का के खेत में ही वे बेहोशी की हालत में थे जिसके बाद परिजन उन्हें इलाज के लिए मुजफ्फरपुर पारस हॉस्पिटल ले गये जहां इलाज के दौरान बुधवार की सुबह उन्होंने दम तोड़ दिया।

किसान के घर मौजूद ओमप्रकाश राय ने बताया कि दो-चार दिन पहले से नारद आता था और दरवाजा पर माथा पे हाथ धरकर झांकता था, कहता था ‘ए ओमप्रकाश, मकई दाना नहीं देयलो, अब हम न जीबो।’ इस पर वे तसल्ली देते थे। कहते थे कि भैया ऐसा नहीं कीजिए कभी होगा न, इस बार नहीं तो अगला फसल आयेगा। पर सुबह 7 बजे उधर गए तो देखे पड़ा हुआ है, लेटा हुआ है, कोई जवाब नहीं कैसे मर गया।


इस खबर की सूचना पाकर स्थानीय प्रशासन घटना स्थल पर पहुंच कर मामले की तफ्तीश में जुट गई है। कृषि पदाधिकारी ने ये माना है कि मक्का की फसलों में दाना नहीं आया है।

इधर शिवहर डीएम राजकुमार ने पूरे मामले की जांच का आदेश दे दिया है और कहा है कि जांच के बाद ही यह पता चल पाएगा कि इस आत्महत्या के पीछे क्या कारण है।

जिला प्रशासन ने कहा कि मीडियाकर्मियों द्वारा पता चला है कि कल्याणी प्रखंड के राजडीह गाँव का किसान जहरीला पदार्थ खाकर मर गया। अंचल पदाधिकारी, जिला पदाधिकारी को घटनास्थल पर जांच के लिए भेजा गया है। प्रारंभिक सूचना के आधार पर ऐसा प्रतीत होता है कि इनके परिवार में आपसी तनाव था। पुत्र की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी। बेटी के शादी-ब्याह का मामला था। सारे पहलुओं की जांच हो रही है। तत्कालिक पारिवारिक लाभ से 20 हजार रुपए उपलब्ध कराया गया है। जहां तक वो किसान थे मक्के की बाली नहीं आने की बात है, उस बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता। जांच की अंतिम रिपोर्ट आने तक कुछ कहना जल्दबाजी होगा।